पेट्रोल पंप पर लूटे गए दिन के फुटेज, जिसमें पीले रंग की टी-शर्ट के साथ वीरेंद्र बताया जा रहा है, अभी तक निश्चित नहीं है

  • पुलिस फिलहाल पुष्टि नहीं कर रही है
  • तेजी से दो साथियों की तलाश

गणतंत्र दिवस से एक दिन पहले, पुलिस को हाई अलर्ट में पेट्रोल पंप अकाउंटेंट से 2.25 लाख रुपये की एक सफल सनसनीखेज डकैती मिली है। एतराज का पुरा धौलपुर राजस्थान का एक शातिर बदमाश पकड़ा गया है। एमपी, यूपी और राजस्थान में लूट के कई मामले हैं। इसकी फोटो लूट के दिन मिले फुटेज से भी मेल खाती है। लेकिन अभी यह घटना स्वीकार्य नहीं है। पुलिस इसके दो साथियों की तलाश कर रही है। पुलिस का मानना ​​है कि लूट करने वाला गिरोह राजस्थान के धौलपुर के सांसद और बदमाशों का है। फिलहाल पुलिस उसकी गिरफ्तारी की पुष्टि नहीं कर रही है।

पुरानी छावनी थाना क्षेत्र, नीरवाली में 25 जनवरी को सुबह 10.10 बजे बाइक सवार तीन बदमाशों ने मुनीम विनोद पलैया के परसादिया पेट्रोल पंप पर नकदी से भरा बैग लूट लिया। बैग में 2.25 लाख रुपये की नकदी थी। वारदात के बाद से क्राइम ब्रांच और पुरानी छावनी पुलिस पुलिस की टीमें लुटेरों की तलाश में जुटी थीं। बदनापुरा के पास मिले लुटेरों की घटनास्थल और अपाचे बाइक के फुटेज पुलिस के पास सिर्फ सुराग थे। घटना के 10 दिन पहले धौलपुर से चोरी की गई बाइक का भी पता चला था। बाइक की जांच करते हुए पुलिस टीम राजस्थान के धौलपुर पहुंची। यहां जांच करने पर पता चला कि वीरेंद्र और उसके साथियों ने वारदात को अंजाम दिया था। इसका पता चलने पर पुलिस और क्राइम ब्रांच ने वीरेंद्र की तलाश शुरू की। पुलिस ने सोमवार सुबह उसे उठा लिया, लेकिन वह अभी इस घटना को स्वीकार नहीं कर रही है।

सी.सी.टी.वी. फुटेज से वीरेंद्र का सुराग मिला

लूट को अंजाम देने और बाइक चुराने के दौरान पुलिस को बदमाशों की स्पष्ट फुटेज मिली। जांच के बाद, यह पाया गया कि वीरेंद्र अपराध का अपराधी था और उसके खिलाफ यूपी, राजस्थान और एमपी में कई डकैती के मामले दर्ज किए गए हैं। अब पुलिस पता लगा रही है कि उसके साथ वारदात में और कौन-कौन शामिल है। ग्वालियर के एसपी अमित सांघी का कहना है कि फिलहाल वह केवल संदेह को स्वीकार कर रहे हैं। जब तक वह घटना को स्वीकार नहीं करता और पैसा वापस नहीं मिलता तब तक कुछ नहीं कहा जा सकता।

 

[ad_2]