आज 23 स्थानों पर 70 टीकाकरण केंद्रों पर टीकाकरण किया जाएगा

  • टीकाकरण की गति बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य विभाग की नई प्रणाली
  • सभी विभागों के एचओडी को वैक्सीन शेड्यूल भेजा गया, ताकि कर्मचारियों की ड्यूटी उसी के अनुसार लगे

यदि कोई कर्मचारी ड्यूटी पर रहते हुए कोरोना के लिए टीका लगवाता है, तो उसे ऑनडूट माना जाएगा। हालांकि, इसके लिए उसे उसी दिन टीकाकरण प्रमाणपत्र के लिए आवेदन करना होगा। यह व्यवस्था टीकाकरण की गति बढ़ाने के लिए की गई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा उन विभागों के प्रमुखों को इस संबंध में जानकारी दी गई है। दरअसल, टीकाकरण के दूसरे चरण में, फ्रंटलाइन श्रमिकों को टीका लगाया जा रहा है। इनमें पुलिस, शहरी प्रशासन, राजस्व विभाग और जिला पंचायत विभाग के कर्मचारी शामिल हैं जिन्होंने कोरोना अवधि के दौरान ड्यूटी की है।

पहले दिन सोमवार को, केवल 25 प्रतिशत फ्रंटलाइन कार्यकर्ता टीकाकरण के लिए आए थे, जो अब तक का सबसे कम प्रतिशत था। जब विभाग ने इस तरह के कम टीकाकरण के कारणों की खोज की, तो यह पता चला कि टीकाकरण के कारण सभी फ्रंटलाइन कर्मचारी ड्यूटी पर नहीं थे। यह नई व्यवस्था इस बात को ध्यान में रखकर की गई है कि कर्मचारी बिना किसी डर के ड्यूटी पर रहते हुए टीकाकरण केंद्र पर जा सकते हैं।

पहले चरण … स्वास्थ्य कार्यकर्ता टीकाकरण

  • 36529 स्वास्थ्य कर्मचारियों को टीका लगाया जाना था
  • केवल 24228 स्वास्थ्य कर्मचारियों को रोजगार देने में सक्षम थे
  • करीना का टीकाकरण 66.32 प्रतिशत था

द्वितीय चरण … फ्रंट लाइन वर्कर्स का टीकाकरण

  • 17485 फ्रंटलाइन श्रमिकों को टीका लगाया जाना था
  • 4518 टीकाकरण हुआ
  • 25.82 प्रतिशत कोरोना टीकाकरण

ताकि ड्यूटी आसानी से लग सके
पुलिस विभाग के फील्ड स्टाफ की ड्यूटी 48 घंटे पहले तय की जाती है। ऐसी स्थिति में, टीकाकरण करने वाले लोगों की सूची पहले ही अधिकारियों को भेज दी गई है। ताकि, उनकी ड्यूटी उसी हिसाब से लगाई जाए ताकि वे ड्यूटी के दौरान केंद्र पर जाकर टीकाकरण करवा सकें।

टीकाकरण 10 घंटे … सुबह 9 से शाम 7 बजे तक होगा
दूसरे चरण के टीकाकरण के हिस्से के रूप में, सीमावर्ती कार्यकर्ताओं को बुधवार को शहर के 23 स्थानों पर 70 केंद्रों पर टीका लगाया जाएगा। टीकाकरण सुबह 9 से शाम 7 बजे तक किया जाएगा।

यह फायदेमंद होगा
जनपद पंचायत के राजस्व और कई कर्मचारियों की ड्यूटी ग्रामीण क्षेत्रों में भी है। जहां से टीकाकरण केंद्र की दूरी कई किमी है। ऐसे में इन कर्मचारियों को ड्यूटी पर रहते हुए टीकाकरण करवाने के लिए ज्यादा सोचना नहीं पड़ेगा।

इधर, तैयारी में भी अड़चन आ रही है … स्मार्ट सिटी कार्यालय में प्रतिरक्षण नियंत्रण कक्ष में मंगलवार शाम 4 बजे तक सर्वर बंद था। स्मार्ट सिटी के सीईओ आदित्य सिंह का कहना है कि सर्वर कुछ समय के लिए डाउन हो गया था। परेशानी जैसी कोई बात नहीं थी।

पहले चरण में … एम्बुलेंस 108 के ईएमटी और पायलट को कोरोना वैक्सीन नहीं मिला
स्वास्थ्य कार्यकर्ता को कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण का पहला चरण पूरा हो गया है, लेकिन एम्बुलेंस 108 और आपातकालीन चिकित्सा तकनीशियन के पायलट को स्वास्थ्य कार्यकर्ता के रूप में कोरोना वैक्सीन नहीं मिला है। भोपाल में आपातकालीन एम्बुलेंस 108 में चिकित्सा तकनीशियन, पायलट, डॉक्टर सहित लगभग 200 कर्मचारी हैं। कोरोना युग में, आपातकालीन चिकित्सा तकनीशियन, पायलट ने सकारात्मक रोगियों को कोविद अस्पताल और कोविद केयर सेंटर में स्थानांतरित कर दिया है।

वरिष्ठ नागरिक से पहले मधुमेह, रक्तचाप और कैंसर रोगियों को कोरोना वैक्सीन मिलेगा
राज्य प्रतिरक्षण कार्यक्रम अधिकारी संतोष शुक्ला ने बताया कि कोरोना वैक्सीन रक्तचाप, मधुमेह और कैंसर के रोगियों, वरिष्ठ नागरिकों से पहले दी जाएगी। वरिष्ठ नागरिकों की आयु की बाध्यता का नियम इन रोगों के रोगियों के लिए लागू नहीं होगा। वरिष्ठ नागरिकों का टीकाकरण फ्रंटलाइन श्रमिकों के टीकाकरण अभियान के बाद शुरू होगा। हालांकि, इसका शेड्यूल अभी तय नहीं किया गया है।

 

[ad_2]