जालंधर में पुलिस अधिकारियों ने सोमवार देर शाम एक टाइल व्यवसायी से लूट के बारे में जानकारी ली।

  • घटना जेपी नगर में हुई, लुटेरे कार से घर लौटते ही पहले से घात लगाए बैठे थे

शहर के पॉश इलाके जेपी नगर में बदमाशों ने पुलिस स्टेशन टाउनशिप बावा खेल से 200 मीटर दूर बंदूक की नोक पर एक टाइल डीलर से लाखों की नकदी लूट ली। कारोबारियों को धमकाने के लिए बदमाशों ने उसके पैरों पर गोलियां चलाईं और फिर नकदी से भरा बैग लूट लिया और उसे जान से मारने की धमकी दी। बदमाश तीन थे और बाइक पर वहां आए थे। यह पूरी घटना वहां लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और लुटेरों की तलाश शुरू कर दी।

व्यवसायी गगन अरोरा

व्यवसायी गगन अरोरा

व्यापारी के शब्द … लूट की कहानी

इस पर गुलाब देवी रोड पर टाइल्स फैक्ट्री चलाने वाले गगन अरोड़ा ने बताया कि रोज की तरह वह फैक्ट्री से जेपी नगर के लिए घर लौट रहे थे। जब वह घर के बाहर खड़ा था, तभी अचानक बाइक पर 3 लोग आए। फिर दो उतर गए और एक बाइक पर बैठ गया। उतरे हुए युवकों में से एक के हाथ में तलवार और दूसरे के हाथ में पिस्तौल थी। उनमें से एक ने पिस्तौल से पैरों में फायर किया और दूसरे ने तलवार उठा ली। उसने बैग देने की धमकी दी, अन्यथा वह तलवार से मार देता या उसे गोली मार देता। उसने बैग दिया और तीन सेकंड के भीतर तीनों वहां से भाग निकले।

लुटेरों ने व्यवसायी से सीसीटीवी कैमरे लूटते हुए देखा

लुटेरों ने व्यवसायी से सीसीटीवी कैमरे लूटते हुए देखा

सीसीटीवी कैमरे में कैद

पूरी लूट की घटना टाइल्स व्यवसायी से हुई सी.सी.टी.वी. कैमरे पर कैद हुआ। जिसमें यह देखा गया है कि जैसे ही टाइल्स व्यवसायी गगन अरोड़ा अपनी कार में खड़े होते हैं और दरवाजा खोलते हैं और बाहर आते हैं, घात में बैठे बाइक सवार पीछे से आते हैं। व्यवसायी की कार के आगे बाइक थोड़ा रुकती है। तभी दो लुटेरे उतरे और बैग छीनकर वापस बाइक में भाग गए।

फायरिंग का डर: जेपी नगर में लूट से पहले फायरिंग के बाद दहशत में आए लोग बड़ी संख्या में इकट्ठा हो गए।

फायरिंग का डर: जेपी नगर में लूट से पहले फायरिंग के बाद दहशत में आए लोग बड़ी संख्या में इकट्ठा हो गए।

लुटेरों की तलाश: ए.सी.पी.

इस संबंध में एसीपी पलविंदर सिंह ने कहा कि लूटे गए कारोबारी के बयान दर्ज किए गए हैं। पुलिस आसपास के इलाकों में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाल रही है ताकि लुटेरों के बारे में कोई मजबूत सुराग मिल सके। मुखबिर नेटवर्क के जरिए आसपास के इलाकों में लुटेरों की तलाश की जा रही है।

 

[ad_2]