• ओपीडी से गायब हुए डॉक्टरों पर स्वास्थ्य मंत्री सख्त
  • सिविल सर्जन हर डॉक्टर की डिटेल रोजाना भेजेंगे

कोरोना का खतरा अब कम हो रहा है, लेकिन सरकारी अस्पतालों में मरीज इलाज के लिए परेशान हो रहे हैं। छोटे अस्पताल यानी सीएचसी, पीएचसी ही नहीं, बल्कि जिला अस्पतालों में डॉक्टर समय पर अस्पताल नहीं पहुंच रहे हैं। इस वजह से ओपीडी में पहुंचने वाले मरीजों को समय पर इलाज नहीं मिल रहा है। स्वास्थ्य मंत्री ने ड्यूटी टाइम पर गायब रहने वाले डॉक्टरों की शिकायतों पर सख्ती दिखाई है। अब जिला अस्पतालों में तैनात हर डॉक्टर की हाजिरी भोपाल हेल्थ डायरेक्टरेट को हेल्थ सर्जन को अपने मोबाइल के व्हाट्सएप से भेजनी होगी। इससे हर डॉक्टर पर नजर रखी जा सकेगी।

गलत जानकारी देने के लिए सिविल सर्जन पर कार्रवाई

स्वास्थ्य आयुक्त ने प्रतिदिन सुबह 9:15 बजे निदेशालय के मोबाइल नंबर 7000092927 पर व्हाट्सएप या एसएमएस भेजकर जिला अस्पतालों के डॉक्टरों की सूचना भेजने का आदेश दिया है। अगर सिविल सर्जन ने एक डॉक्टर को गलत अटेंडेंट भेजा और निरीक्षण के दौरान वह डॉक्टर गायब पाया गया, तो अस्पताल के सिविल सर्जन पर कार्रवाई की जाएगी।

नई व्यवस्था आज से लागू हो जाएगी

जेपी अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ। राकेश श्रीवास्तव के अनुसार, स्वास्थ्य विभाग ने ओपीडी में डॉक्टरों की निगरानी के लिए इस नई प्रणाली को लागू करने का निर्णय लिया है। नई व्यवस्था बुधवार से लागू हो जाएगी।

 

[ad_2]